MSME Kya Hai | MSME Full Form In Hindi India 2021

MSME Kya Hai | एमएसएमई क्या है?

MSME (Micro, Small & Medium Enterprises) का मतलब सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम है|जिसे भारत सरकार द्वारा सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विकास (MSMED) अधिनियम, 2006 के साथ शुरू किया गया, जो वस्तुओं और वस्तुओं के उत्पादन, निर्माण, प्रसंस्करण या संरक्षण में लगे हुए हैं|

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग को समझने से पहले एक बार इसको पढ़े:

जैसे कि ऊपर बताया गया है अब तक MSME 2006 के अधिनियम के हिसाब से चल रहा था पर 13 मई 2020 को भारत सरकार द्वारा MSME की पुरानी परिभाषा में संशोधन किया है अब इसमें आप समझिए पुराने और नए संशोधन में क्या महत्वपूर्ण बदलाव हैं|

एमएसएमई की नई परिभाषा

सूक्ष्म उद्योग:  2006 के एक्ट के अनुसार सूक्ष्म उद्योग में आप 25 लाख तक का निवेश (investment) कर सकते थे पर नए संशोधन के बाद सूक्ष्म उद्योग उद्यमी 1 करोड़ तक का निवेश कर सकते हैं  और ₹5 करोड़ तक का टर्नओवर कर सकते हैं|

लघु उद्योग: 2006 के एक्ट के अनुसार लघु उद्योग में आप 5 करोड़ तक का निवेश (investment) कर सकते थे पर नए संशोधन के बाद लघु उद्योग उद्यमी 10 करोड़ तक का निवेश कर सकते हैं  और ₹50 करोड़ तक का टर्नओवर कर सकते हैं|

मध्यम उद्योग: 2006 के एक्ट के अनुसार मध्यम उद्योग में आप 10 करोड़ तक का निवेश (investment) कर सकते थे पर नए संशोधन के बाद मध्यम उद्योग उद्यमी 20 करोड़ तक का निवेश कर सकते हैं और ₹100 करोड़ तक का टर्नओवर कर सकते हैं|

MSME Full Form In Hindi

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम

MSME Kya Hai: Micro, Small & Medium Enterprises

 

MSME के लाभ

1- अगर अगर आप एमएसएमई बिजनेस शुरू करने जा रहे हैं तो बैंक से आपको आसानी से लोन मिल सकता है|

2- MSME लोन पर बैंक ब्याज दर काफी कम होता है

3- एमएसएमई लोन पर सरकार की तरफ से टैक्स में छूट दी जाती है|

4- MSME बिजनेस लाइसेंस के लिए आपको ज्यादा परेशानी नहीं उठानी पड़ती, यहां पर आपको आसानी से बिजनेस लाइसेंस मिल जाता है|

5- सरकार के द्वारा इन्हें एक सर्टिफिकेट भी दिया जाता है जिस जिसके कारण माल को लाने वाले जाने में ज्यादा परेशानी सामना ना करना पड़े|

6- सरकार के द्वारा इन्हें वरीयता (Preference) दी जाती है|

7- अगर आपके पास एमएसएमई बिजनेस सर्टिफिकेट और लाइसेंस है तो एनजीटी (NGT) की तरफ से भी आपको ज्यादा परेशानी नहीं आएगी|

एमएसएमई महत्व (MSME Importance)

रोजगार (Employment)- पूरे भारत का 45 % रोजगार सिर्फ और सिर्फ MSME सेक्टर से आता है इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि, अगर MSME सेक्टर डूबा तो देश के 45 % लोग बेरोजगार हो जाएंगे|

निर्यात (Export)- क्या आपको पता है भारत से 50% निर्यात MSME सेक्टर द्वारा किया जाता है इसीलिए इसे बचाना और जरूरी हो जाता है|

उद्योग (Industry)-  क्या आपको पता है जितनी भी इंडस्ट्रीज/उद्योग हैं उनमें से 90% हिस्सा MSME का है और बाकी 10% इंडस्ट्रीज के अंदर लार्ज स्केल इंडस्ट्रीज और हैवी स्केल इंडस्ट्रीज (Large Scale Industries and Heavy Scale Industries) आती हैं|

प्रोडक्ट (Product)- एमएसएमई के अंदर 6500 प्रोडक्ट बनाए जाते हैं, या MSME 6500 products बना रहीं हैं|

GDP (Gross Domestic Profit)- भारत सरकार ने देश की Total GDP का 10% हिस्सा एमएसएमई को दे रखा है लगभग 20 लाख करोड़, ऐसा करके सरकार Micro, Small & Medium Enterprises को बढ़ावा देती है जिससे वह अपने बिजनेस को अच्छे से सफल बना सकें|

एमएसएमई मंत्री कौन हैं

Minister Minister of State
श्री नारायण तातु राणे (Shri Narayan Tatu Rane)  श्री भानु प्रताप सिंह वर्मा (Shri Bhanu Pratap Singh Verma)

MSME में कौन से उद्योग है

पैक्ड फूड

फल/सब्जी

किराना

होटल/रेस्टोरेंट

दूध

मछली पालन – मुर्गी पालन – पशुपालन

खाने का कोई सामान

मोटर साइकिल या वाहन

साइकिल

ब्यूटी पार्लर

कॉस्मेटिक

सलून

इलेक्ट्रिक

इलेक्ट्रॉनिक

कॉपी और किताबें

फोटोकॉपी बिजनेस

टेलर दर्जी

LAB/जांच घर

हार्डवेयर

कारपेंटर

लेदर इत्यादि

इसे भी पढ़ें:

Sarkari Yojana List | सरकारी योजना योजना INDIA 2021

Mahilao Ke Liye Yojna in India 2021

PM Vaya Vandana Yojana in Hindi| प्रधानमंत्री वय वंदना योजना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *